Blood Donation Ke Fayde | विश्व रक्तदाता दिवस 2020


कब हुई रक्तदाता दिवस मनाने की शुरुआत

आइए blood donation ke fayde को जानने से पहले विश्व रक्तदाता दिवस पर कुछ रोचक तथ्यों के माध्यम से जाने। इस दिवस को मनाने की शुरुआत सबसे पहले वर्ष 2004 में की गई। वर्ष 1997 में World Health Organisation (WHO) ने  100 फ़ीसदी स्वैच्छिक रक्तदान की शुरुआत की। उनका लक्ष्य ये था की विश्व के 124 देश अपने यहाँ स्वैच्छिक रक्तदान को बढ़ावा दे। उनका उद्देश्य था की ख़ून की जरूरत पड़ने पर किसी को भी पैसे देने की जरूरत ना पड़े लेकिन इस पर लगभग 49 देशों ने ही अमल किया। कई देशों में 80 प्रतिशत रक्त दाता पैसे नहीं लेते। लेकिन कई देश ऐसे भी हैं जहाँ रक्तदाता पैसे लेते हैं इसमें भारत भी शामिल है, और वहीं कुछ देश ऐसे भी है जहां रक्तदाता निशुल्क रक्तदान करते हैं।

आखिर 14 जून को ही रक्तदान दिवस क्यों मनाया जाता है?

कार्ल लैंडस्टाइनर एक महान वैज्ञानिक थे। जिनका जन्म 14 जून 1868 में हुआ था। उन्होंने मानव रक्त में उपस्थित  एग्लूटिनिन की मौजूदगी के आधार पर  रक्तकणों का अलग अलग समूहों A,B,O में वर्गीकरण कर  चिकित्सा विज्ञानं में अपना अहम योगदान दिया। जिसके बाद से ही ब्लड ग्रुप का पता लगाना आसान हुआ। वर्ष 1930 में इनको नोबल पुरष्कार से भी  सम्मानित किया गया। इस कारण हर वर्ष  रक्तदान को बढ़ावा देने व रक्तदाताओं का धन्यवाद करने के लिए  14 जून को सारी दुनिया में  वर्ल्ड डोनर डे मनाया जाता है।

रक्तदान करना क्यों जरूरी है?

रक्तदान करना आज कई कारणों से जरूरी होता जा रहा है, क्योंकि रक्तदान से खून का थक्का नहीं जमता इससे खून कुछ मात्रा में पतला हो जाता और दिल की बीमारियां होने का खतरा नहीं रहता।इस से दूसरों को जीवनदान दिया जा सकता है। अब तक किसी ऐसी मशीन का पता नहीं लगा है जो कृत्रिम खून तैयार कर सके। किसी रक्तदाता के द्वारा रक्तदान करने पर ही खून की कमी को पूरा किया जा सकता है। हर साल करोड़ों लोगों को रक्त की जरूरत होती है पर कुछ नसीबवालों को ही रक्त मिल पाता है। सिकल सेल के मरीज को कई बार ब्लड डोनेशन की जरूरत पड़ती है। अकेले एक कार एक्सीडेंट में ही 100 यूनिट रक्त की जरूरत पड़ सकती है।एक बार ब्लड डोनेशन करने से या 3 जिंदगियां बचाई जा सकती हैं। 

रक्तदान को लेकर भ्रातियाँ

‘रक्तदान करेंगे तो कमजोर हो जाएंगे’ लेकिन ऐसा नहीं है एक या 2 दिन में पूरी तरह से पिछली हालत में पहुंचा जा सकता है।

‘रक्तदान करने के बाद सामान्य तरीके से काम नहीं कर पाएंगे’ बिल्कुल कर सकते हैं सिर्फ 12 घंटे तक  heavy exercise ना करें 

‘काफी वक्त निकाल लिया जाएगा’ सिर्फ (1 unit)350ml रक्त ही लिया जाता हैं। एक औसत व्यक्ति के शरीर में 5 से 6 लीटर (10 unit) खून होता है। रक्तदान करना बहुत ही आसान है।इस से डरने की जरुरत नहीं है।

‘ब्लड प्रेशर ज्यादा रहता है इसलिए ब्लड डोनेट(Blood Donate) नहीं कर सकते’ अगर रक्तदान के समय रक्तचाप 180 सिस्टॉलिक और 100 डायस्टॉलिक है, तो आप ब्लड डोनेट कर सकते हैं।

रक्तदान कैसे किया जाता है

सबसे पहले आप का रजिस्ट्रेशन होता है। आपका नाम, उम्र, पता आदी जानकारी ली जाती है।

Medical History ली जाती है।

आपका mini-physical चेकअप किया जाता है। जिसमें आपका ब्लड प्रेशर,  pulse rate,weight, temperature,  ब्लड ग्रुप और Hemoglobin लेवल की जांच की जाती है।

कुछ सावधानियां बरतें

1.जहां से ब्लड डोनेट किया है, सुई लगने की जगह को 10 से 15 मिनट तक दबाकर रखें।

2.अगले 4 घंटे खूब सारा तरल पदार्थ लेना चाहिए, जैसे-पानी ,नींबू पानी, जूस, दूध छाछ आदि।Heavy एक्सरसाइज 1 दिन तक नहीं करनी सिगरेट 30 मिनट तक नहीं पीनी चाहिए।

3.30 मिनट तक गाड़ी ना चलाएं।खाना रोज जितनी मात्रा में ही लेना चाहिए। शराब 6 घंटे तक नहीं पीनी चाहिए।

4.खून देने के बाद अगर चक्कर आए तो लेट जाएं और अपने पैरों को ऊपर उठा ले और खूब पानी पिएं।

blood donation ke fayde - Exclusive Samachar

 रक्तदान कौन कर सकते हैं?

1.कोई भी स्वस्थ व्यक्ति जिसकी उम्र 18 साल से 65 साल के बीच की हो वह रक्तदान कर सकता है।

2. जिसका वजन 45kg से अधिक हो वो रक्तदान कर सकता है।

3.जिसने पिछले 3 महीने से रक्तदान नहीं किया वह रक्तदान कर सकता है।

4. जिसे पीलिया, मलेरिया मधुमेह, एड्स, एचआईवी हेपेटाइटिस बी या सी जैसी बीमारियां ना हो वह रक्तदान कर सकते हैं। 

5.रक्तदाता ने शराब या कोई नशीली दवा नाली हो।

6. रक्तदाता की पल्स रेट 50 से 100/min के बीच हो। 

7.शरीर का तापमान 99.5°F से कम हो।

8. खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा 12.5 gm/dl से ज्यादा होना  चाहिए।

9. पुरुष 90 दिन और महिलाएं 120 दिन बाद दोबारा ब्लड डोनेट कर सकते हैं।

कौन नहीं कर सकता रक्तदान

1.बच्चों को स्तनपान करने वाली महिला।

2. महावारी के दौर से गुजर रही महिला।

3. पिछले ब्लड डोनेशन के समय काफी चक्कर या थकावट महसूस की हो।

4. अगर आपको कोई drug addiction हो तो आप ब्लड डोनेट नहीं कर सकते

रक्तदान के फायदे

blood donation ke fayde: वैसे तो हम में से अक्सर कई लोग ब्लड डोनेट करते हैं ऐसा करके लोगों की जान बचाई जा सकती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ब्लड डोनेट करना हमारे लिए कितना फायदेमंद है।आइए जानते हैं रक्तदान के फायदे:-

मोटापे से बचाव: नियमित ब्लड डोनेट करने से कैलरी और फैट तेजी से burn  होता है, जो मोटापे से बचाता है। 

Iron Level: नियमित तौर पर ब्लड डोनेट करने से आयरन लेवल बैलेंस रहता है जिस से hemochromatosis बीमारी से बचाव होता है।

कैंसर से बचाव: खून में ब्लड का लेवल maintain रहने और नए tissue बनने से कैंसर से बचाव होता है।

हेल्दी हार्ट और लीवर: शरीर में ज्यादा आयरन जमा होने से हर्ट और लीवर डैमेज होने का खतरा बना रहता है लेकिन नियमित ब्लड डोनेट करने से इससे बचा जा सकता है।

बेहतर ब्लड सरकुलेशन:नियमित ब्लड डोनेशन से रक्त का    circulation  अच्छा रहता है इससे शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई अच्छे से होती है।

हार्ट अटैक से बचाव: ब्लड सरकुलेशन अच्छा होने से  arteries में  blockage or clotting की समस्या नहीं होती इसे heart attack होने का खतरा नहीं रहता।

New Blood Cell:Blood डोनेट करने से हुई कमी को दूर करने के लिए तुरंत  नए ब्लड सेल बनने लगते हैं जिससे स्वास्थ्य अच्छा रहता हैं।

Cholesterol or B.P. control:नियमित तौर पर blood donate करने से cholesterol level भी कम रहता है, और बीपी भी कम रहता है।

Health checkup: ब्लड डोनेशन के दौरान ब्लड की जांच भी होती है जिससे बीमारियों के बारे में पता चल जाता हैं।

Healthy Brain:Research में पाया गया कि नियमित ब्लड डोनेट करने से इंसान को खुशी मिलती है जिस से  Brian healthy होता हैं ।

Author: admin

Admin: Hindi Blog Exclusive Samachar

Leave a Reply